Friday, August 12

drama

तेरी जाति क्या?
culture, drama, literature, ludhiana, play

तेरी जाति क्या?

नाटक की भला कोई जाति होती है क्या? लेकिन नाटक जाति के सवाल पर बहुत गंभीर विमर्श कर सकता है। ख़ास कर उस शहर में जहां पर नाटक भी अछूत माना जाता है।असल में नाटक बड़ा दमदार माध्यम है। अगर इसे जी-जान से किया जाए तो दर्शकों को अंदर तक हिला देने की कुव्वत रखता है। पंजाब में नाटकों की विभिन्न किस्म की परंपराएं रही हैं। पूरी सीरिज़ में देखता हूं तो लुधियाना शहर नाटक के बड़े केंद्र के रूप में उभरता हुआ नज़र आता है। दशक भर पहले अमृतसर में निजी प्रयास से सम्पूर्ण आॅटोमेटेड रंगमंच का आगमन हुआ। वहां अब वीकऐंड रंगमंच का चलन आम हो गया है। लोग टिकट ख़रीद कर नाटक देखने आते हैं। दिल्ली, मुंबई जैसी फीलिंग आती है।दूसरी तरफ़ लुधियाना जैसे इंडस्ट्रियल शहर का नाटक अभी भी दानियों के रहमो-कर्म और रंगमंच संस्थानों के निजी प्रयासों तक सीमित है। पंजाबी साहित्य अकाडमी का ओपन ऐयर थिएटर हौसला बढ़ाता है। लेकिन पपड़ी बन कर धीरे-...