Tuesday, August 9

shahid kapoor

Film Review | Padmavat | फ़िल्म रिव्यू | पद्मावत
deepika padukon, entertainment, ranveer singh, sanjay leela bhansali, shahid kapoor, दीपिका पादुकाेण, मनोरंजन, रणवीर सिंह, शाहिद

Film Review | Padmavat | फ़िल्म रिव्यू | पद्मावत

दीप जगदीप सिंह | रेटिंग 2/5संजय लीला भंसाली की पद्मावत इतिहास नहीं, बल्कि मलिक मोहम्मद जयसी की काव्य कल्पना का दृश्यात्मक वर्णन है। भंसाली के चिरपरिचित अंदाज़ में यह ज़रूरत से ज़्याद खिंचा हुआ और विहंगम बनाने की कोशिश में अत्यधिक डार्क हो गया है।   कहानी बिल्कुल सीधी है, सिंघल की राजकुमारी पद्मावति बला सी खूबसूरत है, जिस पर चितौड़ का रावल रत्न सिंह मोहित होकर उसे ब्याह ले जाता है। उधर दुनिया जीतने की लालसा में अपनो का ही खून बहा कर अलाउदीन खिलजी हिंदुस्तान के तख़्त पर काबिज़ हो जाता है। एक तरफ़ रावल रत्न सिंह पद्मावति के साथ अपनी ज़िंदगी का आनंद ले रहा है तो दूसरी तरफ़ खिलजी पूरी धरती पर अपनी हकूमत चलाने का ख़ाब पूरा करने में जुटा है, तभी एक ऐसी साजिश होती है, जो खिलजी को कहने के लिए मजबूर कर देती है, सरहदें बोहत फैला दी, अब बाहें फैलाएंगेलेकिन यह बाहें वह अमन के लिए नहीं अपनी हवस के लि...
entertainment, film-review, shahid kapoor, udta punjab, फि‍ल्‍म समीक्षा

Film Review | उड़ता पंजाब

बस कर टो... टो... टाॅमी सिंह-दीप जगदीप सिंह-रे​टिंग 3/5उड़ता पंजाब एक शानदान फिल्म तो नहीं है लेकिन जानदार फिल्म ज़रूर है, वो भी अपने जानदार किरदारों की वजह से। फिल्म में एक समुचित कहानी ना होने की वजह से यह केवल किरदारों की आंतरिक और बाहरी उथल-पुथल को पर्दे पर उतारती हुई बताती है कि कैसे नशा इन किरदारों की ज़िंदगी को एक अंधे कुएं की ओर धकेल रहा है।   जिस राजनैतिक उठापटक ने फिल्म को विवादित बना दिया था फिल्म का उससे दूर-दूर तक कोई नाता है। अगर कहूं कि फिल्म रत्ती भर भी राजनैतिक नहीं है तो गल्त नहीं होगा।फिल्म चार किरदारों टाॅमी सिंह (शाहिद कपूर ) , सरताज (दिलजीत दोसांझ) , पिंकी कुमारी (आलिया भट्ट) और डाॅ. प्रीत साहनी (करीना कपूर) के गिर्द घूमती है। टाॅमी पंजाब के एक चर्चित राॅकस्टार से पूरी तरह मेल खाता राॅकस्टार है, जो नशे की में धुन इत्तेफाक से कुछ ऐसी धुनें बना गया है ...
alia bhatt, anurag kashyap, bollywood, censor board, cinema, diljit, ekta kapoor, films, kareena kapoor, politics, shahid kapoor, udta punjab

उड़ता पंजाब : सियासत, सेंसर और बाज़ार

-दीप जगदीप सिंह-कभी बिहार तो यूपी तो कभी पंजाब...सियासत से लेकर बाज़ार सब मिल कर प्रस्थितियों को भुना लेना चाहते हैं। पंजाब गर्त में जा रहा है। भ्रूण हत्या के मामले में लिंग अनुपात में सबसे निचले पायदान पर... यानि लड़कियों का भवष्यि खतरे में है। हर रोज़ दो से तीन किसान खुदकुशी कर रहे हैं, यानि उनका भविष्य भी अंधकारमय है। व्यपारी, दुकानदार से लेकर मज़दूर सब बेहाल हैं। कहीं काम धंधा नहीं है, रोज़गार नहीं है। पंजाब का युवा तंग आकर विदेश के जहाज़ में बैठने के लिए आतुर है। जिसके पास पैसा या ज़मीन है वह कुछ ना कुछ जुगाड़ लगा कर उड़ रहा है। जिसके पास कोई जुगाड़ नहीं है वह 'चिट्टा' (हीरोईन) पीकर यहीं उड़ने की फीलिंग ले रहा है।अगले साल पंजाब में चुनाव आने वाले हैं, अकाली दल भाजपा की हालत पतली है, गांव-गांव में 'आप' का डंका बज रहा है, हर किसी को लग रहा है आप सफैद और हरी के बाद पंजाब में किसी 'नए रंग...