Sunday, August 7

साहि‍त्‍य उत्‍सव

#JLF, culture, literature, literature festival, साहि‍त्‍य, साहि‍त्‍य उत्‍सव

जयपुर लि‍ट्ररेचर फैस्‍टीवल: उत्‍सव या तमाशा

दीप जगदीप सि‍ंह | जयपुर लि‍ट्रेचर फैस्‍टीवल खत्‍म हुए एक सप्‍ताह से ज्‍़यादा हो चुका है। पांच दि‍न की 'भीड़ भरी हवाई उड़ान' के बाद 'जैटलैग' से नि‍कलने के लि‍ए शायद एक सप्‍ताह काफी होता हो। इन सात-आठ दि‍नों में लि‍खूं या ना लि‍खूं वाली हालत लगातार बनी रही, लेकि‍न आखि‍र कब तक चुप रहूं, तमाशबीन बन कर तमाशा देखता रहूं, यही सोच कर अब तुम्‍हारे हवाले जानो तन साथि‍यो...     ख़ैर आप सोच रहें होंगे कि‍ यह तमाशा क्‍या है तो बता दूं कि‍ 2014 में ही मैंने कहीं कह दि‍या था कि‍ अब इसका नामकरन जयपुर फि‍ल्‍म, क्रि‍केट और लि‍ट्ररेचर फैस्‍टीवल कर देना चाहि‍ए, लेकि‍न अब बात उससे भी आगे बढ़ चली है क्‍योंकि‍ भीड़ के साथ-साथ मंच पर होने वाला प्रस्‍तुति‍करण भी तमाशे का रूप ले चुका है। इस बार मैं इसे ग्रेट इंडि‍यन लि‍टरेरी ग्‍लैमर्स तमाशा कहना चाहता था। आप चाहें तो बुरा मान सकते हैं लेकि‍न 'मोदी-मो...
culture, literature, literature festival, साहि‍त्‍य, साहि‍त्‍य उत्‍सव

ज़ी जयपुर लि‍ट्ररेचर फैस्टीवल में मनेगा राजस्‍थानी संस्‍कृति‍ का जशन

दीप जगदीप सि‍ंह । साहि‍त्‍य के साथ साथ ज़ी जयपुर लि‍ट्ररेचर फैस्टीवल में इस बार राजस्‍थानी संस्‍कृति‍ का जशन भी मनेगा। साहि‍त्‍य समारोह के दौरान मीरा बाई के काव्‍य से लेकर कवांड़ की मौखि‍क परंपरा के साथ ही राजस्‍थान के पौराणि‍क गहनों का भी प्रदर्शन होगा। यानि‍ इस बार ज़ी जयपुर लि‍ट्ररेचर फैस्टीवल में राजस्‍थान की कला और संस्‍कृति‍ के रंग भी घुलेंगे।   आयोजकों काे उम्‍मीद है कि‍ इस बार 2 लाख लोग मेले का हि‍स्‍सा बनेंगे, इस लि‍ए वि‍चार उत्‍तेजक चर्चाओं के साथ ही उनके मनोरंजन के लि‍ए सांस्‍कृति‍क कार्यक्रमों का आयोजन भी कि‍या जा रहा है। पूरे आयोजन के दौरान अामेर कि‍ले और एल्‍बर्ट हाल में सांस्‍कृति‍क शामों का आयोजन होगा जि‍समें सभी भाग ले सकते हैं। ज़ी जयपुर लि‍ट्ररेचर फैस्टीवल का शुभारंभ राजस्‍थान की मुख्‍यमंत्री वसुंधरा राजे करेंगी, जबकि‍ पुरस्‍कृत लेखि‍का माग्रेट एटवुड उद्घाटनी भाषण ...
culture, literature, literature festival, साहि‍त्‍य, साहि‍त्‍य उत्‍सव

शब्दों के समंदर में डूबने को तैयार है ग़ुलाबी ‘रेगि‍स्तान’

दीप जगदीप सि‍ंह । ज़ी लि‍ट्ररेचर फैस्टीवल देश दुनि‍या में साहि‍त्य के जशन का पर्यावाची बन गया है। हर साल जनवरी में ग़ुलाबी 'रेगि‍स्तान' शब्दों के समंदर में डूब जाता है, जि‍समें दुनि‍यां भर के नामी कलमकार अपने वि‍चारों की लहरें लेकर आते हैं और दुनि‍या भर से आए साहि‍त्य प्रेमि‍यों को अपनी नमकीन बूंदों से सराबोर कर जाते हैं। 2016 में ज़ी जयपुर लि‍ट्ररेचर फैस्टीसवल अपना एक दशक पूरा करने जा रहा है, ग़ुलाबी 'रेगि‍स्तान' शब्दों के समंदर का स्वारगत करने के लि‍ए तैयार हो चुका है।   21 से 25 जनवरी तक चलने वाले साहि‍त्य के इस महांकुंभ में सदाबहार कथाकार रस्किा‍न बांड, इस साल के मैन बुकर सम्मान प्राप्त लेखक मैरन जेम्ज़‍, भारत के चर्चि‍त मनोवैज्ञानि‍क व लेखक सुधीर कक्ककड़, वि‍श्व वि‍ख्यात अदाकार व कॉमेडि‍यन स्टीिफन फ्राई, हि‍ंदी कथाकार, कवि‍ व उपन्यासकार उदय प्रकाश, अल्काि साराओगी, कॉल्म् टायबि‍न,...
culture, literature, literature festival, साहि‍त्‍य, साहि‍त्‍य उत्‍सव

भारतीय भाषाओं का महाउत्सव समन्वय 2015

इंडिया हैबिटाट सेंटर में भारतीय भाषा महोत्सव ‘‘समन्वय: 2015’’ के पांचवां संस्करण पिछले हफ्ते संपन्न हुआ। इस साल ‘‘समन्वय’’ की थीम है - इनसाइडर/आउटसाइडर - राइटिंग इंडियाज ड्रीम्स एंड रियलिटीज’’ रही और इस साल इस आयोजन के स्वरूप में काफी विस्तार हुआ है और इस साल के महोत्सव में क्यूरेट कला, अनुवाद से लेकर पाक प्रशंसा जैसे विषयों पर जाने-माने विद्वानों द्वारा कार्यशाला, पुस्तक विमोचन, इस महोत्सव के रिसोर्स व्यक्तियों के साथ स्कूलों में सामाजिक संपर्क कार्यक्रम, और कश्मीर, बंगाल, तमिलनाडु और महाराष्ट्र की पाक परंपराओं पर आधारित क्यूरेटड खाद्य स्टाल भी मुख्य आकर्षण रहे। एजाज अहमद, राकेश कक्कड़, परेश नाथ, विदयुन सिंह, रिजियो योहान्नन राज द्वीप प्रज्वलन कर सम्मेलन का उद्घाटन करते हुएइसके अलावा, इस साल के महोत्सव के दौरान लेखकों, अनुवादकों और प्रकाशकों को एक मंच पर लाया गया, जिस दौरान विभिन्न ...